24 C
Patna
Tuesday, December 6, 2022

खो-खो को एशियाड में शामिल करना हमारा अगला टारगेट : एमएस त्यागी

Must read

पटना। नए फारमेट के साथ शुरू हुई अल्टीमेट खो-खो लीग भारत के इस पारंपरिक खेल की लोकप्रियता में क्रांतिकारी बदलाव आएगा। खिलाड़ियों को अधिक से अधिक अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिल रहा और इस लीग खिलाड़ियों को जरूरी एक्सपोजर देने के साथ-साथ उनके प्रति लोगों का ध्यान भी अपनी ओर खींच रही हैं। इस लीग को भारत ही नहीं पूरे विश्व में देखा जा रहा है जो इस खेल के प्रचार और प्रसार में अहम कड़ी साबित होगी। ये बातें भारतीय खो-खो महासंघ के महासचिव महेंद्र सिंह त्यागी ने खेलढाबा से विशेष बातचीत में कही।

अल्टीमेट खो-खो लीग से आयेगी क्रांति

उन्होंने कहा कि खो-खो एक ऐसा खेल है जिसे लगभग हर भारतीयों ने अपने बचपन में खेला होगा। धीरज, फुर्ती और ताकत के कारण यह एक सर्वकालिक पसंदीदा है। यह खेल अब भारत में युवाओं के बीच लोकप्रियता हासिल कर रहा है। उन्होंने कहा कि पहले हम इस मिट्टी पर खेलते थे। विश्व में इसकी लोकप्रियता बढ़ाने के लिए बदलाव हुए और अब यह खेल वैज्ञानिक रूप से विकसित मैट पर विशेष रूप से डिजाइन किए गए किट और संबंधित उपकरणों के साथ खेला जा रहा है जो आपको अल्टीमेट खो-खो लीग में दिख रहा है।

एशिया कप और विश्व कप भी हो रहा है

भारत खो-खो महासंघ के महासचिव महेंद्र सिंह त्यागी ने कहा कि खो-खो के नए अवतार को इस तरह तैयार किया गया है कि जिससे खेल रोमांचक होने के साथ-साथ रफ्तार में तेज हो और लोगों को अंत तक बांधे रखे। उन्होंने कहा कि एशियाई ओलंपिक परिषद से हम मान्यता मिली हुई है। इसी वर्ष 12 अक्टूबर से दिल्ली में एशिया कप का आयोजन करने जा रहे हैं जिसमें 12 एशियाई देश हिस्सा लेंगे। इसके बाद विश्व कप का आयोजन होगा जिसमें लगभग 20 देश हिस्सा लेगा।

विदेशों में किया जा रहा प्रसारित

उन्होंने कहा कि भारतीय खो-खो महासंघ इस खेल को न केवल अपने देश में पोपुलर करने में लगा है बल्कि इसके प्रसार का प्रयास विदेशों में कर रहा है। इसी कड़ी में पिछले वर्षों में कई देशों का प्रतिनिधिमंडल भारत में आकर इस खेल का अध्ययन किया है। हम उन देशों में इस खेल को बढ़ाने के लिए हरसंभव मदद कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारत ने दक्षिण एशियाई खेलों में पुरुष और महिला दोनों खो-खो चैंपियनशिप में लगातार स्वर्ण पदक जीते हैं। द्विपक्षीय प्रचार के एक भाग के रूप में, भारत-इंग्लैंड और भारत-नेपाल के बीच खो-खो टेस्ट मैच भी खेले गए हैं। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खिलाड़ियों को प्रशिक्षित करने के लिए, ईरान, सिंगापुर, श्रीलंका, अफगानिस्तान सहित कई देशों में कोचों की प्रतिनियुक्ति की जा रही है।

भारत सरकार का खेल मंत्रालय कर रहा है काफी मदद

उन्होंने कहा कि भारत सरकार का युवा मामले और खेल मंत्रालय, भारत सरकार और भारतीय खेल प्राधिकरण खो-खो के विकास और प्रचार के लिए सभी आवश्यक बुनियादी ढांचे और वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए बहुत उदार है। अब तक केकेएफआई के साथ 30 लाख से अधिक खिलाड़ी पंजीकृत हैं।

खो-खो खिलाड़ियों को मिल रही है सरकारी नौकरी

भारत सरकार खेल कोटा के तहत खो-खो को नौकरियों के लिए खेल की प्राथमिकता सूची में शामिल करने के लिए बहुत दयालु और विचारशील रही है। इसे अखिल भारतीय पुलिस खेल नियंत्रण बोर्ड (AIPSCB) के खेल पाठ्यक्रम में भी शामिल किया गया है। यह हमारे गांवों के गरीब और वंचित युवा खो-खो खिलाड़ियों को भारत में सीएपीएफ और पुलिस संगठनों में भर्ती होने का अवसर प्रदान करेगा।

उन्होंने कहा कि खो-खो को आने वाले समय में एशियाई खेलों में शामिल किए जाने की संभावना है और हमारा उद्देश्य इसे राष्ट्रमंडल और ओलंपिक खेलों का हिस्सा बनाना है।

अध्यक्ष सुधांशु मित्तल और राजीव मेहता का खो-खो को बढ़ाने में अहम योगदान

भारत खो-खो महासंघ के महासचिव महेंद्र सिंह त्यागी ने कहा कि भारत के इस पारंपरिक खेल को इस ऊचाइयों तक पहुंचाने में भारतीय खो-खो महासंघ के अध्यक्ष सुंधाशु मित्तल और भारतीय ओलंपिक संघ के महासचिव राजीव मेहता का महत्वपूर्ण योगदान है। भारतीय खो-खो महासंघ के अध्यक्ष सुंधाशु मित्तल जो अंतरराष्ट्रीय खो-खो महासंघ के भी अध्यक्ष हैं उनकी चाहत है कि यह खेल विश्व के हर देश में खेला जायेगा। वे इसके लिए दिन-रात मेहनत कर रहे हैं। उनकी ही सोच और मेहनत का नतीजा है अल्टीमेट खो-खो लीग जैसा नया अवतार।

राज्य संघ और खिलाड़ियों को हरसंभव मदद

उन्होंने कहा कि भारतीय खो-खो महासंघ अपने राज्य यूनिट और खिलाड़ियों का पूरा ख्याल रखता है। कोरोना काल में खिलाड़ियों को खेल से जोड़े रखा। संसाधनों के मामले में राज्य संघों को भारतीय खो-खो महासंघ को काफी शक्तिशाली बना रहे हैं। संसाधन बढ़ेगा तो खो-खो बढ़ेगा। यों कहें आने वाले दिनों में पूरे विश्व में खो-खो की बोली-बोली जायेगी।

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article