30 C
Patna
Wednesday, April 24, 2024

14वीं झारखंड स्टेट फेंसिंग चैंपियनशिप का शानदार समापन

वेस्ट बोकारो। तलवारबाजी हमारी पौराणिक शस्त्र कला होती थी, जो आज आधुनिक होकर फेंसिंग के रुप में हमारे सामने है। उक्त बातें टाटा स्टील वेस्ट बोकारो डिविजन के महाप्रबंधक अनुराग दीक्षित ने 14 वां झारखंड स्टेट फेंसिंग चैंपियनशिप के उद्घाटन सत्र के दौरान बतौर मुख्य अतिथि कही। उन्होंने कहा कि आज जहां चैलेंज होता है दिक्कत होती है उसी के आगे आशा भी होती है। शुरुआत के ओलंपिक के समय से यह खेल शामिल है, ज्यादा संभावनाएं है। देर से शुरु हुए तो क्या है लेकिन इसमें हम अपना गौरवशाली भविष्य देख सकते है। उन्होंने कहा कि खेल अनुशासन और सतत प्रयास जरुर इस देश को प्रदेश को शिखर पर ले जाएगा। उन्होंने तलवारबाजी खेल को भी भरपूर सहयोग करने का आश्वासन दिया।

तलवारबाजी खेल को बढ़ावा देने के लिए टाटा स्टील करेगी प्रयास : केशव रंजन
तलवारबाजी खेल को बढ़ावा देने के लिए टाटा स्टील और टीएसएफ जरुर प्रयास करेगा। उक्त बातें बतौर मुख्य अतिथि टाटा स्टील फाउंडेशन के यूनिट हेड केशव रंजन ने रविवार को चाइल्ड वर्ल्ड स्कॉलर हाई स्कूल में आयोजित 14 वां झारखंड स्टेट तलवारबाजी चैंपिशयनशिप के समापन समारोह में कही। उन्होंने संघ के कहा कि आपकी लगन और मेहनत को देखकर ऐसा लगता है कि सफलता मिलना निश्चित है। उन्होंने कहा कि किसी को असफलता का अफसोस नहीं रहना चाहिये। बल्कि इस बात की सीख लेनी चाहिये कि किसी बात से और कारणों से हम सफल नहीं हुए है। असफलता को स्वीकार कर लेना यह सबसे बड़ी सफलता है। उन्होंने आश्वासन देते हुए कहा कि इस हमारे देश में वहीं खेल सफल है जिसमें टीम हिस्सा लेती है। उन्होंने कहा कि अगर इस खेल को भी प्रचलित और लोकप्रिया करना है तो इसमें ज्यादा खिलाड़ियों को जोड़ना होगा और क्षेत्र के वंचित, ग्रामीण, आदिवासी और साधारण लोगों के बीच रुची पैदा करनी होगी। जिस तरह गली मोहल्लों में लोग क्रिकेट, गुल्ली डंडा खेलते है उसी प्रकार इस खेल को भी प्रचलित करना होगा।

खिलाड़ियों की मदद के लिए जेके इंटरनेशनल तन मन और धन से सेवा करेगी : जितेन्द्र कुमार सिंह
आज हमारे ग्रुप में 50 से अधिक खिलाड़ी नौकरी पकड़कर अपनी सेवा दे रहे है। उन्होंने ऑफर किया कि यहां से भी कोई खिलाड़ी ऐसा है तो जरुर उसका नाम दे उन्हे हम नौकरी और प्लेटफार्म देने का काम करेंगे। उक्त बातें जेएफए के अध्यक्ष जितेन्द्र कुमार सिंह ने खिलाड़ियों से कही। उन्होंने कहा कि तलवारबाजी खेल को स्कूल का आंगन देने के लिए स्कूल प्रबंधन का आभार प्रकट किया। उन्होंने भावविभोर होते हुए स्कूल प्रबंधन को एडवांस में अगला मैच के लिए जेके इंटरनेशनल स्कूल में आमंत्रित किया। उन्होंने कहा कि मैं खेल से आज यहां पहुंचा हूं और खेल को बढ़ावा देने के लिए जो बन येगा करुंगा। उन्होंने जयकुमार सिन्हा की प्रशंसा करते हुए कहा कि खेल जगत में इनकी भरपाई कोई नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि स्पोट्स तभी आगे बढ़ेगा जब हम जैसे खेल से जुड़े लोग स्पोट्स को समझेंगे और आगे बढ़ाने में सहयोग देंगे।

प्रतियोगिता में कुछ जीत कर तो कुछ सिख कर जायेंगे : अर्चित आनंद
यह खेल वर्षो पुरानी है, जिसे आज आधुनिक किया गया है। आज हमारे राज्य और देश में इस खेल को और विकसित करने की जरुरत है। उन्होंने गुजरात में हुए नेशनल गेम का जिक्र करते हुए कहा कि वहां विभिन्न राज्यों के बच्चे पहुंचे थे जहां एक छोटा हिन्दुस्तान दिखता है। जैसे आज स्कूल में राज्य के विभिन्न जिलों से बच्चे आए है। उन्होंने कहा कि यह कुछ बच्चे जीत कर जाएंगे और कुछ बच्चे बहुत कुछ सिख कर जाएंगे। पढ़ाई के साथ साथ खेल को भी जीवन का अहम हिस्सा बनाने की अपील की।

मेडल लेकर आने के बाद हमारी सरकारें खिलाड़ियों के प्रति जागती है : विजय मेवाड़
जैसा कि हम देखते है कि जब हमारे बच्चे मेडल लेकर आते है तब सरकारे जागती है और कुछ करने की सोचते है। यह गलत तरीका है, जबकि हमें बच्चों की तलाश कर उन्हें बेहतर ट्रेनिंग और पौष्टिक भोजन देकर उन्हें आगे लाना चाहिए। तब जाकर यह बच्चे भारत ही पूरे दुनिया में भारत का नाम रौशन करेंगे। उक्त बातें जिला तलवारबाजी संघ के चेयरमैन विजय मेवाड़ ने कही। उन्होंने शासन और प्रशासन से अपील किया कि अगर एक सशक्त भारत बनाना है तो सरकारों को अभी जागना होगा। उन्होंने खिलाड़ियों ने कहा कि हम उस दिन और खुशी होगी जब यहां से चयनित बच्चे नेशनल में राज्य का नाम रोशन करेंगे और हमें भी सम्मानित करने का मौका मिलेगा।

स्टेट चैंपियनशिप में रामगढ़ जिला टीम ने 38 पदक जीतकर लहराया परचम
दो दिनों से चले आ रहे दो दिवसीय 14 वां झारखंड स्टेट फेंसिंग चैंपियनशिप में रामगढ़ जिला टीम के खिलाड़ियों ने कुल 38 मेडल जीतकर जिला को गौरवांवित किया है। जिसमें विभिन्न श्रेणियों में रामगढ़ जिला टीम के खिलाड़ी प्रिंस मुंडा, निशु हेम्ब्रोम, शगुन केसरी, खुशी कुमारी, सोनम कुमारी, सुमित कुमार और सोनम कुमारी को गोल्ड मेडल, ऋषिराज रजत, जागृति सिंह रजत, स्वाति कुमारी ब्राउंच, दिव्या सिन्हा रजत, भारती कुमारी रजत, अनमोल कुमार, ऋषिराज, अजीत कुमार, हंषिका कुमारी, सिद्धू कुमार, संगम कुमारी, सोनिया हांसदा और सिद्धू कुमार को रजत पदक सहित परिणीता पटेल ब्राउंच, पूजा कुमारी, सीमा कुमारी, मिहिर कुमार, बजरंगी कुमार, संगम कुमारी, कृतिका कुमारी, गौरी शंकर, प्रेम कुमार, कृष पासवान, खुशी कुमारी, नंदनी कुमारी, कृतिका कुमारी, हंषिका कुमारी, गौरी शंकर, सुमित कुमार और सपना कुमारी को ब्राउंच मेडल से संतोष करना पड़ा।

आयोजन को सफल बनाने में इनका रहा महत्वपूर्ण योगदान
इस दो दिवसीय स्टेट फेंसिंग चैंपियनशिप को सफल बनाने में मुख्य रुप से आरडीएफए के मुख्य संरक्षक टाटा स्टील वेस्ट बोकारो डिविजन के महाप्रबंधक अनुराग दीक्षित, संरक्षक रोहित प्रसाद, केशव रंजन, सन्नी कुमार सिंह, चेयरमैन विजय मेवाड़, अध्यक्ष दिनेश कुमार, सचिव राकेश कुमार मिश्रा, कोषाध्यक्ष प्रशांत कुमार, वरीय उपाध्यक्ष प्रसन्ना कुमार ठाकुर, उपाध्यक्ष अहमद हुसैन, दीपक सिंह, सहसचिव स्वामी नंदन वर्मा, रविन्द्र कुमार, आयोजन समिति के चेयरमैन गोपाल जाजू, वाइस चेयरमैन गीतांजलि जाजू सहित संघ और स्कूल परिवार की पूरी टीम की सराहनीय योगदान रहा।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles

Verified by MonsterInsights