29 C
Patna
Friday, October 7, 2022

हितों के टकराव के मुद्दे पर श्वेत पत्र तैयार करेगा सीओए: इडुल्जी

Must read

मुंबई। सीओए की सदस्य डायना इडुल्जी ने स्वीकार किया कि प्रशासकों की समिति (सीओए) को बीसीसीआई के दैनिक संचालन में हितों के टकराव को लागू करने में व्यावहारिक समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है और इन मुद्दों को लेकर ‘श्वेत पत्र’ तैयार किया जाएगा।

इडुल्जी और उनके साथी लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) रवि थोडगे ने पूर्व राष्ट्रीय कप्तानों दिलीप वेंगसरकर और सौरभ गांगुली (स्काइप के जरिये) सहित पूर्व और मौजूदा क्रिकेटरों से मुलाकात की और उच्चतम न्यायालय द्वारा नियुक्त न्यायमूर्ति आरएम लोढा समिति के विवादास्पद नियम से हो रही ‘समस्या’ पर चर्चा की।

सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़, गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण जैसे पूर्व दिग्गजों के हितों के टकराव के आरोपों का सामना करना पड़ा है और बीसीसीआई के लोकपाल और आचरण अधिकारी न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) डीके जैन उन्हें अतीत में नोटिस जारी कर चुके हैं। बैठक में संजय मांजरेकर, इरफान पठान, पार्थिव पटेल, अजित अगरकर और रोहन गावस्कर ने भी हिस्सा लिया।

बैठक के बाद इडुल्जी ने संवाददाताओं से कहा, सभी मुद्दों (हितों के टकराव से जुड़े) पर चर्चा की गई, क्रिकेटरों को क्या परेशानी हो रही है, हमें (प्रशासकों) इसे लागू करने में क्या परेशानी हो रही है। काफी उपयोगी चर्चा हुई।

थोडगे ने भी इडुल्जी से सहमति जताते हुए कहा, कुछ वास्तविक मुश्किलें हैं जिनका सामना हमारे क्रिकेटरों को करना पड़ रहा है। कुछ चीजों से शायद हम सहमत नहीं हों लेकिन कुछ चीजों से हमें सहमत होना होगा। हम उनसे इन्हीं मुद्दों पर जानकारी चाहते थे और यही इस बैठक का उद्देश्य था।

उन्होंने कहा, क्रिकेटरों को हितों के टकराव का सामना करना पड़ रहा है और हमें उनकी चिंताओं पर बात कर रहे हैं। क्रिकेटरों को जिस मुख्य मुद्दे का सामना करना पड़ रहा है वह दोहरी भूमिका से जुड़ा है जैसे खिलाड़ी-कमेंटेटर, कमेंटेटर-आईपीएल फ्रेंचाइजी स्टाफ, कमेंटेटर-प्रशासक-फ्रेंचाइजी मेंटर, बीसीसीआई में पद-आईपीएल फ्रेंचाइजी से जुड़ा होना आदि।

बीसीसीआई का संविधान स्पष्ट करता है कि ‘एक व्यक्ति एक पद’ होना चाहिए और इसका उल्लंघन ‘हितों का टकराव’ माना जाता है।

इडुल्जी ने कहा, गांगुली ने भी स्काइप के जरिये नजरिया रखा। अच्छे सुझाव आए और यह भी कि हम श्वेत पत्र तैयार करेंगे और इसे न्यायमित्र के समक्ष रखेंगे जो इसे उच्चतम न्यायालय को सौंपेगा। ‘श्वेत पत्र’ आधिकारिक रिपोर्ट या मार्गदर्शिका होती है जो पाठक को जटिल मुद्दे के संदर्भ में स्पष्ट जानकारी देती है और उस मुद्दे पर किसी संस्था के रुख को बताती है।

इडुल्जी ने हालांकि कहा कि फिलहाल हितों के टकराव के नियम का पूरी तरह से पालन करने की जरूरत है। भारतीय महिला टीम की पूर्व कप्तान इडुल्जी ने कहा कि बैठक के दौरान हुई चर्चा और इस दौरान उठाए गए मुद्दों को सीओए की अगली बैठक में उठाया जाएगा जिसमें अध्यक्ष विनोद राय भी मौजूद रहेंगे।

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

error: Content is protected !!