युवराज सिंह ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को कहा अलविदा

0
248
yuvraj singh

नई दिल्ली। भारत के सुपर स्टार ऑलराउंडर क्रिकेटर युवराज सिंह ने सोमवार को क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा कर दी। युवराज सिंह भारत की दो वल्र्ड चैंपियन (2007 में वल्र्ड टी-20 और 2011 में वल्र्ड कप) टीमों का हिस्सा रहे और दोनों ही टूर्नामेंट्स में उन्होंने अपने प्रदर्शन से खास छाप छोड़ी थी। 2017 के बाद से ही उनका चयन भारतीय टीम में नहीं हो पा रहा था। बताया जा रहा है कि 37 वर्षीय युवराज आईसीसी से मान्यता प्राप्त विदेशी टी-20 लीग में बतौर फ्रीलांस क्रिकेटर कैरियर बनाना चाहते हैं। उन्हें जीटी-20 (कनाडा), आयरलैंड और हॉलैंड में यूरो टी20 स्लैम में खेलने के ऑफर मिल रहे हैं।

युवराज सिंह ने आखिरी बार भारत के लिए फरवरी 2017 में इंग्लैंड के खिलाफ टी-20 इंटरनेशनल मैच में खेले थे। इससे पहले वह चैंपियंस ट्रॉफी 2017 और उसके बाद वेस्टइंडीज दौरे पर गई भारतीय टीम का हिस्सा रहे। उन्होंने अपने कैरियर का आखिरी वनडे मैच 30 जनवरी 2017 को वेस्टइंडीज के खिलाफ एंटीगुआ में खेला था।
Yuraj singh

अपने संन्यास करने की घोषणा करते वक्त युवराज सिंह ने कहा कि बचपन से मैंने अपने पिता का देश के लिए खेलने का सपना पूरा करने की कोशिश की। उन्होंने यहां अपने क्रिकेट कैरियर को याद करते हुए कहा, अपने 25 साल के कैरियर और खास तौर पर 17 साल के अंतरराष्ट्रीय कैरियर में कई उतार-चढ़ाव देखे। अब मैंने आगे बढ़ने का फैसला ले लिया है। इस खेल ने मुझे सिखाया कि कैसे लड़ना है, गिरना है, फिर उठना है और आगे बढ़ जाना है।

उन्होंने बताया कि आईपीएल के दौरान वह सचिन से रिटायरमेंट पर बात कर रहे थे। युवी बोले, ‘सचिन ने मुझसे कहा था कि तुम्हें तय करना है कि कब अपना करियर खत्म करना है, तुमसे बेहतर कोई भी यह फैसला नहीं ले सकता।’
युवराज से पूछा गया कि उन्हें किस बात का मलाल रहेगा। इसपर वह बोले कि उन्हें ज्यादा टेस्ट मैच न खेलने का मलाल रहेगा। अगले सवाल में उनसे पूछा गया कि किस खिलाड़ी में वह अपनी छवि देखते हैं। इसपर वह बोले कि ऋषभ पंत अच्छे खिलाड़ी हैं और उनमें उन्हें अपनी छवि दिखती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here