बिहार क्रिकेट : ये तेज गेंदबाज परफॉरमेंस के बाद भी हुए इग्नोर

0
538
Bihar Cricket Team

पटना। बिहार क्रिकेट एसोसिएशन ने मंगलवार को तेज गेंदबाजों के ट्रेनिंग कैंप के लिए कुल 34 प्लेयरों का लिस्ट जारी किया है। इन लिस्ट से कुछ ऐसे प्लेयरों का नाम गायब है जिसने इस सत्र में घरेलू टूर्नामेंट में काफी बेहतर प्रदर्शन किया है। इसके अलावा एक ऐसा प्लेयर जिसने पिछले सत्र में बिहार की अंडर-23 की ओर से खेलते हुए अच्छे विकेट चटकाये हैं। इस लिस्ट में कुछ ऐसे प्लेयरों का नाम पटना की ओर से शामिल किया गया जिसका नाम पटना के क्रिकेट जानकारों ने अभी तक नहीं सुना है।

बात पहले भागलपुर के दो क्रिकेटरों मो आमिर और विकास कुमार की। मो आमेर और विकास कुमार ने इस साल हेमन ट्रॉफी में भागलपुर की ओर से खेलते हुए 19-19 विकेट चटकाये हैं पर बिहार क्रिकेट एसोसिएशन द्वारा घोषित लिस्ट में इन दोनों का नाम गायब है। ऐसा नहीं है कि इस लिस्ट केवल पिछले सीजन में बिहार का प्रतिनिधित्व करने वाले खिलाड़ियों का ही नाम है इसमें नये खिलाड़ी भी जुड़े हैं। इन दोनों का नाम भी इस लिस्ट होना चाहिए था ऐसा यहां के क्रिकेट जानकारों का कहना है। घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट में किये गए प्रदर्शन को कैसे इग्नोर किया जा सकता है।

तीसरा नाम है विकास झा। इस तेज गेंदबाज ने बिहार की ओर से खेलते हुए अंडर-23 क्रिकेट टूर्नामेंट में कुल 35 विकेट चटकाये हैं। सिक्किम के खिलाफ उन्होंने नौ विकेट चटकाये हैं। इतना विकेट चटकाने के बाद इसे क्यों इग्नोर किया गया। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार विकास झा शायद मधुबनी जिला क्रिकेट संघ और बीसीए के आपसी खींचतान की भेंट चढ़ गए हैं। खैर जो भी आपसी खींचतान में खिलाड़ी को नहीं समेटना चाहिए। वे किसी संघ नहीं जिला, राज्य या देश के खेलते हैं। इन तीनों के अलावा सुपौल के विश्वजीत और पूर्णिया के राज सिंह नवीन सहित कई और क्रिकेटर हैं जिनका नाम इस लिस्ट में रहना चाहिए था। क्रिकेट जानकारों का कहना है कि इस कैंप ने नये खिलाड़ियों को ऊपर लाने का मौका मिलना चाहिए था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here